अनंतिम

सत्यव्रत की हिंदी/हिंदुस्तानी रचनाएँ

Posts Tagged ‘new year

नया साल

leave a comment »

[नव-वर्ष 2008]

नया साल, इसमें नया क्या है?
क्या ही हो सकता है नया!
नया तो पल है,
और पलों की मसनद पर ये सपनीली दुनिया सजी है,
सपनीली दुनिया की मसनद
आंऽऽऽ
चलो धोकर आते हैं.

Advertisements

Written by SatyaVrat

सितम्बर 3, 2010 at 12:09 पूर्वाह्न