अनंतिम

सत्यव्रत की हिंदी/हिंदुस्तानी रचनाएँ

Posts Tagged ‘तिश्नगी

तिश्नगी

with 3 comments

[मार्च 2010]

साँझ के बाद की ये तिश्नगी* पुरानी है,
ख़ुदा नये हैं पर ये बंदगी पुरानी है.

*तिश्नगी=प्यास

Written by SatyaVrat

सितम्बर 3, 2010 at 12:18 पूर्वाह्न