अनंतिम

सत्यव्रत की हिंदी/हिंदुस्तानी रचनाएँ

अतिप्रश्न

with 2 comments

कुछ अतिप्रश्न हाइकु के रूप में. हाइकु कविता कहने का एक जापानी कायदा है. इसमें 3 पंक्तियां होती है, पंक्तियों में क्रमश: 5-7-5 अक्षर; अर्द्धाक्षरों को नहीं गिना जाता. (अंतिम दो पंक्तियों में तुकबंदी एक नया प्रयोग है. पहली पंक्ति एक प्रश्न खड़ा करती है, और शेष उसके दो अलग- अलग संभावित उत्तर हैं)

कविता क्या है?
व्यग्र विचार व्यथा/
लयबद्धता

अस्तित्व क्या है?
डार्विन का सिद्धांत/
वेद- वेदान्त

दर्शन क्या है?
धरती पर बोझ/
सत्य की खोज

जीवन क्या है?
हर पल का मान/
अर्थ का भान

मरण क्या है?
अनंतिम अनंत/
अंतिम अंत

Written by SatyaVrat

अगस्त 9, 2011 at 8:02 अपराह्न

2 Responses

Subscribe to comments with RSS.

  1. Awesome! With time, your poetry is getting more depth and charm. Keep it up!!

    saurabh

    अगस्त 9, 2011 at 11:12 अपराह्न


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: