अनंतिम

सत्यव्रत की हिंदी/हिंदुस्तानी रचनाएँ

रंग

with 2 comments

[अक्टूबर 2010]

लोग काले और सफ़ेद में सोचते हैं,
पर सब नहीं- कुछेक और रंगों में भी सोच लेते हैं,
लाल, हरे, नीले… मोम के कलर बॉक्स के बारह रंगों में,
सभी इतने में नहीं मानते-
वो पानी वाले चौबीस रंगों का डिब्बा रखते हैं,
उनमें से कुछ कलाकार जोड़-घटा और मिला-जुला कर और भी रंग बना लेते हैं,
और,
कुछ नए शोहदे अलां और फलां क्रोमेटिक रंगों से सैकड़ों-हज़ारों रंग तैयार करते हैं.

हाँ, शायद इतने ही रंगों में रंगी है ये दुनिया,
या के बाकी जो कुछ बचे भी हैं वो सब गैरज़रूरी हैं!

Written by SatyaVrat

मई 19, 2011 at 11:48 अपराह्न

2 Responses

Subscribe to comments with RSS.

  1. Ankur,behad khush hua yeh kavita parhkar.Pehlee pankti ki vedhakata aur iski vyapti mujhe is baat ka santosh aur sukh deti hai ki tumhare bheetar ek behtar kavi hai. ‘mom ke colour ke box ke barah rangon’ aur ‘chaubees rangon ka dibba’ aur ‘naye shohade alan aur phalan chromatic rangon se saikdon-hazaron rang taiyar karte hain’ – sach kahen to itna acchha bimba(imagery) ya ki zindagi ka behatreen roopak(metaphor) mujhe gahre se choo gaya hai. Ankur,mere liye computer ki yeh lipi yadi samasya na hoti to main shayad is kavita par ekaadh page ka critical appreciation zaroor likhta. Philwaqt Rajesh Joshi ki ‘Bachche’ sheershak kavita http://www.kavitakosh.com se parhkar samay ho to apni pratikriya dena.

    अनाम

    अक्टूबर 21, 2011 at 11:44 अपराह्न

  2. हार्दिक धन्यवाद🙂
    ‘बच्‍चे काम पर जा रहे हैं’ पढ़ी. लगा कि मर्म जैसे शब्द केवल मन की उपज नहीं हैं.

    एक और नयी बिम्ब प्रधान कविता लिखी है- कृपया देखें और टिप्पणी दें

    SatyaVrat

    नवम्बर 12, 2011 at 8:55 अपराह्न


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: