अनंतिम

सत्यव्रत की हिंदी/हिंदुस्तानी रचनाएँ

प्यार तो है (हाइकु)

leave a comment »

[2005]

होठों में हँसी,
दिल में कहीं इक,
दरार तो है.

बेचैन तो हूँ,
बस ख़ुशी है, तुझे-
करार तो है.

मैं बरबाद,
पर तेरे घर में,
बहार तो है.

फ़कीरी में भी
गिला नहीं, ये तेरा-
बाज़ार तो है.

सच कहूँ तो,
तुझे हो न हो, मुझे-
हाँ, प्यार तो है.

वो शायर तो,
गुज़र चुका पर,
मज़ार तो है.

Written by SatyaVrat

सितम्बर 3, 2010 at 12:04 पूर्वाह्न

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: